भरोसे के भरोसे...'s image
Poetry1 min read

भरोसे के भरोसे...

Thakur Yogendra SinghThakur Yogendra Singh June 27, 2022
Share0 Bookmarks 42 Reads0 Likes

भरोसा हर वहम,हर शक,जहन से दूर करता है।

भरोसे में वहम,अपनो को भी मजबूर करता है।।

 ..

भरोसे ने कई रिश्तों मे डाला हौसले का दम।

भरोसे में कई मारे गए, बेमोत, बेमौसम।।

...

भरोसे ने,भरोसे मे, भरोसे को किया कायम।

भरोसा टूट जाए तो, न कोई तुम,न कोई हम।

...

भरोसा, दोस्ती का,प्यार का,आधार होता है।

भरोसे के बिना, अधूरा हर व्यवहार होता है।।

..

भरोसेमंद के संग तो, विकटतम लू भी मन भाए।

दरारें हों भरोसे में तो, रस्सी सांप बन जाए।।

...

भरोसे में अहम,जिद,छल कपट,विषपान होते हैं।

समझ, धीरज, सहनशक्ति, भरोसे को संजोते हैं।।

...

भरोसा! आपदा में, दुधारी तलवार जैसा है।

है निर्भर,सामने उस पल जो है, इंसान कैसा है।।

...

भरोसे को निभाना, साथ को स्वीकार करना है।

मिलाकर हाथ, जीवन में,नए नित रंग भरना है।।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts