अपने-बेगाने's image
Share0 Bookmarks 69 Reads0 Likes

कोन अपना, कौन बेगाना, बहुत मुश्किल है कहना।

चाहता हर कोई हरदम, साथ अपनो के ही रहना।।

...

है वही अपना कि जो, संताप को भी सुख बना दे।

व्याधियों से त्रस्त जीवन में भी, जो उत्सव मना दे।।

...

कोई बेगाना नहीं, सुख, शान्ति, सन्मति दे सकेगा।

सिर्फ अपना ही सदा, अपनों सी संगति दे सकेगा।।

...

हर कहीं, हर वक्त जिसको, हो प्रथम परवाह,चिंता‌

अपने अहसानों को जो,ना जताता हो,ना ही गिनता।।

...

जो जरूरत पर न छोड़े हाथ, बस वो ही है अपना।

आजकल अपनों में, अपना ढ़ूंढना भी एक सपना।।

...

कहने को तो सब, मिला कन्धे से कन्धा साथ चलते।

पर न गुण अपनत्व के भी, अपनेपन के बिना पलते।।

...

भावनाओं से जुड़ा, निस्वार्थ हितचिंतक वही है।

जो हमारी गलतियों को बेहिचक करता सही है ।।

...

लोग बेगानो में भी, अपनों की अक्सर खोज करते।

भाग्य से मिल जाए तो, खुशियां मनाते, मौज करते।।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts