आज  -  कल's image
Share0 Bookmarks 42 Reads0 Likes

आज आया है, कल को गुजर जाएगा।

आज का वक्त कल फिर नहीं आएगा।।


होंगे दिन भी वही, होंगी रातें वहीं।

सिलसिला आज,कल का बदल जाएगा।।


जो भी देखा, सुना, या किया कल तलक।

आज  उसका  नतीजा, नजर  आएगा।।


जो हुआ उसमें बदलाव, संभव नहीं।

आज करना है क्या, वो समझ आएगा।।


आप दोहराएं फिर से, वही गलतियां।

वक्त फिर से नहीं, खुद को दोहराएगा।।


गुजरी यादों की तिजोरी में तलाशेंगे अगर।

हर सहेजा हुआ पल, फिर से मिल जाएगा।।


आज की जो हैं दुविधांए, मजबूरियां।

कल उनका भी हल कुछ निकल आएगा।।


आज को गर संवारेंगे, हम प्यार से।

कल खुद ही, सुखद बन, संवर जाएगा।।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts