काग़ज़'s image
Share0 Bookmarks 78 Reads1 Likes

फंसाने क़िस्से कहानियाँ कोई अपना हो तो सुनाए,
मुझे काग़ज से उसका वक़्त उधार लेना पड़ रहा हैं,,
        
                      ✍टीना कुमावत ✍

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts