कोई मार जाता है क्या!!?'s image
UAE PoetryPoetry2 min read

कोई मार जाता है क्या!!?

tarunveer_s_ctarunveer_s_c November 28, 2021
Share1 Bookmarks 75 Reads1 Likes

अक्सर किसी के जाने से,

किसी ख़ामोशी से,

कोई चुप हो जाता है,

भूल जाता है बोलना,

हँसना, और रोना।

लेकिन,

कोई मर जाता है क्या??


ढो रहा होता है,

आत्मा से सहारे,

एक जिंदा लाश को।

कुछ पाने की तलाश में,

कुछ खोने की आस में।

मगर सबके सामने खुश है,

हँसता है, मुस्कुराता है।

लेकिन! कहीं...

कोई मर जाता है क्या!!?


उसके सूखे चेहरे पर,

रूखी सी मुस्कान,

ऐसा लगता है,

जैसे किसी कब्र पर

कोई फूलों का गुलदस्ता।

ऐसा गुलदस्ता,

जिस से कब्र खूबसूरत दिखती है,

खुशबू से महका देती है,

सारे कब्रिस्तान को,

मगर अन्दर पड़ी लाश को,

कोई फ़र्क पड़ता है क्या!!??

मग़र उस लाश को देख कर,

दुःखी होकर,

कहीं... 

कोई मर जाता है क्या!!??


फिर कोई आता है जब,

उसे ढूंढ़ता हुआ,

और पाता नहीं है कुछ,

फिर कहता है...

रुक नहीं सकते थे क्या?

इंतेज़ार नहीं कर सकते थे क्या?

ऐसे भी...

कोई मर जाता है क्या!!???

ऐसे भी...

कोई मर जाता है क्या!!???


बातें बन्द होने से...

कोई मर जाता है क्या???


-तरुण वीर सिंह



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts