रात ठहर गई है मुझमें's image
1 min read

रात ठहर गई है मुझमें

Sylvester BrittoSylvester Britto June 16, 2020
Share0 Bookmarks 57 Reads0 Likes

मेरी ज़िंदगी की कैफियत तो पूछिए ही मत,

एक घोर घनी रात ठहर गई है मुझमें I

इसका उजाला न जाने कब आएगा,

उस कैफियत को भी रहने की आदत हो गई है इसमें I I


एक निराशा,लाख सहारों की उम्मीद मुझे भी थी,

पता नहीं यह आंकड़ा कैसे उल्टा पड़ गया I

बहुत ही धुंधली यादें बाकी है अब तो,

अरे ! यह तो मेरा एक छोटा-सा अफसाना बन गया I I



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts