लिबास बदल लिया's image
OtherPoetry1 min read

लिबास बदल लिया

Sumeet ParikshitSumeet Parikshit October 13, 2021
Share0 Bookmarks 141 Reads2 Likes

बदल न सके कभी खुद को, 

फिर भी चर्चा सर-ए-'आम किया ,

ढिंढोरा पीट कर हक्क का दुनिया में 

घर घुसते ही उसने अपना लिबास बदल लिया 


चुन न सके खुद उस राह को, 

फिर भी दाएं-बाएं का घमासान किया,

क़ाबिल नहीं जो गैर जानिबदार होने में,

घर घुसते ही उन्होंने अपना लिबास बदल लिया 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts