कल जब फुर्सत होगी न, तब कर लेंगे।।'s image
Poetry2 min read

कल जब फुर्सत होगी न, तब कर लेंगे।।

sujeet.rajawatsujeet.rajawat September 14, 2022
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

कितनी ही अपनी ख्वाईशो को,

दफ़न किया मैंने।

कितनी ही अपनी चाहतों का,

कफ़न सिया मैंने।।

 

वो बाइक के शोरूम के सामने,

जा कर ठहरना।

वो एनफील्ड की ड्राइविंग सीट पर,

खुद को देखना।

वो सुहाना मौसम, लॉन्ग ड्राइव,

और बारिश में थड़ी की चाय,

ऐसे सफर के ख्वाब कई बार देखना।।

 

पर फिर वो नए घर की EMI,

वो लर्निंग कोर्स की फीस।

वो एनफील्ड की लौ माइलेज का फाइनेंसियल thought,

And you know that list of countless things, yet to be brought।।

 

एनफील्ड तो सिर्फ एक पैशन है।

कल जब फुर्सत होगी न, तब कर लेंगे।।

 

और बस ऐसे ही,

कितनी ही अपनी ख्वाईशो को,

दफ़ किया मैंने।

कितनी ही अपनी चाहतों का,

कफ़नसिया मैंने।। े।।

 

वो महीनो पहले,

लॉन्ग वीकेंड का कैलेंडर देखना।

वो यूट्यूब पर थाईलैंड, मॉरिशस के टूर,

और फन एक्टिविटीज ढूँढना।।

 

Earned लीव्स की कैलकुलेशन,

बॉस का लीव रिक्वेस्ट का लेकर इंटरप्रिटेशन।

फिर कन्वेन्स करने के लॉजिकल रीज़न।

या इलोजिकल एक्सक्यूज़ प्लान करना।

और सब करने के बाद,

दोस्तों में इस प्लान का एलान करना।।

 

पर फिर बच्चो की टूशन फीस,

और एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटीज का एक्सपेंस।

वो दिवाली पर दो दिन के लिए,

घर भी जाना पड़ेगा,

वाला सोशल और फाइनेंसियल सेंस।।

 

नेक्स्ट कैलेंडर ईयर में भी तो same वेकेशन्स है।

कल जब फुर्सत होगी न, तब कर लेंगे।।

 

और बस ऐसे ही,

कितनी ही अपनी ख्वाईशो को,

दफ़ किया मैंने।

कितनी ही अपनी चाहतों का,

कफ़नसिया मैंने।।


#बिखरीस्याही





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts