हैवानियत's image
Share0 Bookmarks 64 Reads1 Likes

हैवानियत


यक़ीन को मेरे वो हैवान तार-तार कर गया 

दिल ही नहीं ज़िस्म के भी टुकड़े हज़ार कर गया


-सुधीर बडोला


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts