तमन्ना।'s image
Share0 Bookmarks 164 Reads1 Likes

उस दिन कुछ तो ऐसा खास था। इन आंखों में।

मेरे तकिए के नीचे रखे मेरे ख्वाबों में।

बदलते मौसम की रातों में।

किताबों की कमेंट्री उड़ गई बातों ही बातों में।

सब कुछ बिखर गया हो जैसे खूबसूरत जज्बातों में।

खिड़कियों से टकराते उन हवाओं में।

बहती नदियों में तैरता था विज्ञापनों का पन्ना।

याद आई मुझे बायो की तमन्ना।

जिसे ना पढ़ने की न ख्वाहिश थी ना तमन्ना।

वह बिना रटा रटाया या पन्ना।

मुझे नहीं थी उसकी तमन्ना।

किस्मत ने जो दिया।

वह मेरे लिए किसी सपने से कम नहीं था।

पर आज इस डूबती कश्ती का सहारा यही।

मेरे सपनों का गुजारा यही।

लिफाफे में कैद।

जंजीरों में जकड़े।

सपनों का गुजारा यही।

उस दिन कुछ तो खास था इन आंखों में।

बदलते जज्बातों में।

समझने के चक्कर में समझ ना आई।

फिजिक्स मुझे।

जितना जानू उतना ही तरोताजा होता है।

यह हर सवालों का जवाब देता है।

बायोलॉजी चीज है वह।

जुड़ा है मेरी जिंदगी से।

मेरे शरीर की हर कल्पना को किताबों में कैद करता है।

यकीन मानो या ना मानो।

जेनेटिक्स से ही वंशज बनता है।

जीव का मतलब जीवन है।

विज्ञान का मतलब असंग त्रुटियों को जानना।

उस दिन कुछ तो खास था इन आंखों में।

बायोलॉजी समझ में आई मुझे।

खूबसूरत जज्बातों में।






No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts