शिवभक्त हम।'s image
Poetry1 min read

शिवभक्त हम।

Sudha KushwahaSudha Kushwaha August 2, 2022
Share0 Bookmarks 27 Reads1 Likes

शिवभक्त हम।

शिव भक्ति हमारा काम है।

दो गज छोड़ दो जनाब।

वहीं से शुरू श्मशान है

मेरा शिव वहां का भगवान होगा।

चिता की राख लगाकर भी ओह।

बहुत महान होगा।

समसानो का राजा है वह।

महलों की रानी उसका इंतजार करती है।

निस्वार्थ मोहब्बत यहीं पर गवाह रहती है।

राहत नहीं दोनों के दिल में यही चाहत रहती है ।

शिवभक्त हम ।

शिव भक्ति हमारा काम है ।

दोगे छोड़ दो।

वहीं से शुरू शमशान है।

चिता की राख लगाने वाला वह बहुत महान है।

दुनिया के कल्याण के लिए विष पीने वाला।

वह कल आता मेरा शिव मेरी जान है।

देखो ना सदियों से पूजा जाता है वह।

वह महलों में महान है

महलों का राजा ना होकर कैलाश का भगवान है।

चिता की राख से सबरता है वह।

एक बेलपत्र पर गदगद हो उठता है वह।

सच्चे मन से एक बेलपत्र चढ़ा दो तुम पर मर मिटता है वह।

शिवभक्त हम।





अमृत की एक बूंद~sudha







No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts