मेरी रूहे गवाही देंगी मेरे इश्क का।'s image
Valentines PoetryPoetry2 min read

मेरी रूहे गवाही देंगी मेरे इश्क का।

Sudha KushwahaSudha Kushwaha September 30, 2021
Share1 Bookmarks 139 Reads2 Likes

रूहे गवाही देंगी मेरे इश्क का।

तुम मेरे जिस्म से कोई सवाल न करना।

हर शाम तेरी याद में मैं टूटू।

तुम इसकी उम्मीद ना करना।

जिस दिन मैं किसी और की हो जाऊंगी।

उस दिन मेरी रूह भी मेरे अंदर मर जाएगी।

मेरे जिस्म से बस एक आवाज आएगी।

तुझे कैसे कसूरवार ठहरा दू।

रूहे गवाही देंगी मेरे इश्क का।

तुम मेरे जिस्म से कोई सवाल न करना।

मुझसे मिलना हो अगर कभी तो।

मेरे जिस्म के कब्र पर।

तुम दूर से आहे भर लेना।

मैं तुम्हारे इंतजार में तिल तिल कर मर जाऊं।

तुम कम से कम मेरे लिए जी लेना।

तुम झूठा ही सही।

कम से कम एक दिन मेरे नाम से पी लेना।

रूहे गवाही देंगी मेरे इश्क का।

तुम मेरे जिस्म से कोई सवाल न करना।

बस आज की रात बीत जाने दो।

मुझे किसी और का हो जाने दो।

मुझे खुद को किसी कब्रिस्तान में दफनाने दो।

रुक तो जाओ सही।

मौत आने से पहले मुझे मर जाने दो।

तुम्हारी एक ख्वाहिश को मुझे निभाने दो।




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts