मेरे शब्दों से टकराकर कहीं टूट ना जाए आप's image
Poetry1 min read

मेरे शब्दों से टकराकर कहीं टूट ना जाए आप

Sudha KushwahaSudha Kushwaha July 15, 2022
Share1 Bookmarks 90 Reads1 Likes

मेरे शब्दों से टकराकर तुम देखना।

कहीं तुम टूट ना जाओ।

सस्ते दिल वाले हो आप देखना।

कहीं यह दिल रूठ ना जाए।

जुबान से कड़वे लोग अक्सर दिल के अच्छे होते हैं।

वह अक्सर सच बोलते हैं।

वह दिल के सच्चे होते हैं।

मैं पहले से बदलाव की ओर बढ़ रही हूं।

मैं फिर से उमंग के साथ सुधा बन रही हूं।

जो हर बात पर चैलेंज कर जाते हैं।

एक दिन तुम हमारी औकात ना नाप पओगे।

हम अपनी औकात ऐसी बनाएंगे।

हम पैसा नहीं कमाएंगे।

बस हम इज्जत कमआएंगे।

मेरे शब्दों से टकराकर कहीं टूट ना जाओ।

तुम इतनी तेजी से संभल जाओ।

हमसे मत पूछो।

हम कैसे हैं जनाब।

बस तुम अपनी राह चलते जाओ।

हमारी राह को मत रोकना।

तुम अपनी राहे मूदेते जाओ।

गम हो या खुशी आनंद के साथ मुस्कुराओ ।।




अमृत की एक बूंद~sudha

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts