देखो कौन आया है।'s image
Poetry2 min read

देखो कौन आया है।

Sudha KushwahaSudha Kushwaha July 15, 2022
Share0 Bookmarks 36 Reads1 Likes

देखो कौन आया है।

एक भक्तों के घर चल कर उसका भगवान आया है।

पूछो तो सही।

उससे वह मेरा पता कैसे पाया है।

देखो ना हमारे यहां कौन आया है।

श्रद्धा से अर्पण एक बेल पत्र पर।

देखो स्वयं मेरा शिव चला आया है।

मैंने उन्हें हर रोज बुलाया है।

एक भक्त को भगवान की जरूरत थी।

देखो ना वह कैसे आया है।

आसमा को चीर कर।

चरणों की तरह।

पेड़ों के पत्तियों से छनकर।

बूंदों की तरह।

जमीन पर पड़ते ही।

सिहर उठा सारा जहां।

आसमा का गर्जना ।

मेघनंद की तरह।

देखो शिवाय है जमीन पर।

देखो कौन आया है।

एक भक्तों के घर चल कर उसका भगवान आया है।

किसने बताया मेरा पता।

मेरे शिव के मुख पर पहली बार मेरा नाम आया है।

मैं हजारों बार कहती हूं।

देखो कौन आया है।

मेरे दर पर आज पहली बार मेरा भगवान आया है।

दुख को हर कर।

सुख देने वाला मेरा शिव उसका नाम आया है।

मेरे नाम के पहले अक्षर से जुड़ कर देखो ना मेरा भगवान आया है।

मैं उसका एक वीर कहलाया है।

देखो ना मेरा भगवान आया है।





अमृत की एक बूंद~sudha












No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts