जवाब's image
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes

सवाल गवारा न हों सकें...तब सवाब ने हि संवारा हैं।

संजीदगी में ज़िंदगी न सिमटी तो न सही, ख़्वाब का तो सहारा हैं।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts