मनुष्य का ठिकाना's image
1 min read

मनुष्य का ठिकाना

Sonu SinghSonu Singh December 12, 2021
0 Bookmarks 32 Reads0 Likes
कहाँ से मैं आया कहाँ मुझको जाना                                     दुनियाँ में अपना न कोई ठिकाना                                 कहाँ घर बनाएं कहाँ दिल लगाएं                                   ये सपनों का संसार कहाँ पर बसाए                                   साथी न अपना सहारा न कोई   किस के सहारे मैं दुनियाँ सजाऊ                                   शहर ढूढता हूँ गली ढूढता हूँ     मैं हर मोड़ पर अब तुम्हे देखता हूँ                                         बता दो प्रभू कोई अपना ठिकाना                                 कहाँ मुझको जाना, कहाँ मुझको जाना                           अपना पराया ये सबकुछ मिटा दो                                        मोहब्बत का दरिया हृदय में बहादो                                   दुनियाँ में अपना मैं सबको बना लूं                                         अपनें हृदय में मैं दुनियाँ बसा लू                                         मोहब्बत का नगमा मैं सबको सुना दूं                                   तेरा नाम लेकर मैं जीवन लुटा दूं                                          सागर के मोती मैं चुन भी न पाया                                     जीवन की गुदड़ी मैं बुन भी न पाया                                     सांसों का अपना न कोई ठिकाना                                 कहाँ मुझको जाना, कहाँ मुझको जाना ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts