शायरी's image
Share0 Bookmarks 25 Reads1 Likes
उल्फ़त की राहों में, तबस्सुम सा तुम मिले।
तुम मिले कि तुमसे मिलके, हमसे हम मिले।।

                       - 'अनिकेत' पंकज

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts