बदलाव..'s image
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes
कुछ इस तरह बदला समाज
शर्म बेची जाने लगी बाजारों में
और दाम जमीर के लगने लगे
हैरत की बात ये है कीमत केवल पैसा
अनमोल आभूषणों की कीमत केवल पैसा
मान मर्यादा जैसे गहने इतने सस्ते बिकने लगे
संस्कार संस्कृति की कोई कद्र नहीं
थामने को मशहुरी नाम की पतंग
लोग इस हद तक गिरने लगे
उस रब की बनाई इस दुनिया में
उसके नाम पे चले ढोंग पाखंड
ये उस रब को शर्मशार करने लगे✍

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts