मजबूरी's image
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes
अभी तो होली का रंग छूटा भी न था,
और वो कल का घर लौटा मुसाफिर,
आज लौट पड़ा।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts