नज़रों से गिरना!!'s image
Learn PoetryPoetry1 min read

नज़रों से गिरना!!

Shrutika SahShrutika Sah February 10, 2022
Share0 Bookmarks 7 Reads0 Likes

देखो मुझे मत गिनवाओ दोष किसी के
प्रतिक्रिया के रूप में मिलेगी आपको सिर्फ एक गहरी चोट;

वो चोट जो ऊंचाई से गिरने में लगती है;
वो चोट जो आपको लगेगी मेरी नज़रों से गिर कर!!


श्रुतिका साह

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts