रिश्ता's image
Share0 Bookmarks 48 Reads1 Likes

हर रिश्ता पैदल चलने के समान है

कभी एक तो कभी दूसरे पैर की कमान है ।

जो दूसरे को पीछे रख, आगे रहा बस एक ही कोई

तो रिश्ता बोझ और लँगड़ाना ही दास्तान है ।

जो हठ कर रुक जाएँ दोनो बराबरी पे

तो आगे बढ़ना बंद और रिश्ता बेजान है ।



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts