हे जननी!'s image
Share0 Bookmarks 133 Reads2 Likes

मम शीश तुम्हारे चरण सदा,

आश्रय तव आँचल, हे जननी!

तव ऋण शतांश भर सेवा है,

है अल्प समक्ष सकल करनी।

तव तनय हूं सदा महीप रहूं,

तव आयु अनंत हो, हे जननी!

मम जीवनकाल समीप रहूं,

तव मंद हंसी हो सदा रमनी।

मम शीश तुम्हारे चरण सदा,

आश्रय तव आँचल, हे जननी!

~संजय 'श्रीश्री'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts