शिक्षा's image
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
उसे मसर्रत कैसे मयस्सर
जिसे नाज़ है अपनी आलिमियत पर,
और उस जैसा ज़हीन कहाँ
जिसे इल्म है अपनी ला-इल्मी का।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts