खलल's image
Share0 Bookmarks 76 Reads2 Likes

मैं तुझे पढ़ना चाहता हूं

तुझे लिखना चाहता हूं

मैं हर वक्त तेरे ही बारे में सोचना चाहता हूं

कभी तुम यादों में आना तो

कभी ख्वाबो में आना

नींदों में मेरी तुम खलल पहुंचाना

मेरी सांसो में तुम बसो

मेरी खुश्बू भी तुम बनो

कुछ इस कदर तुम पास रहो

ना रहके भी तुम मेरे हरदम ही आसपास रहो ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts