जिंदगी छोटी सी है's image
Poetry1 min read

जिंदगी छोटी सी है

Shikha singhShikha singh March 26, 2022
Share0 Bookmarks 73 Reads1 Likes

बाजदफा इंसान अपनी पहचान खोने लगता है

उसे जिंदगी छोटी सी लगने लगती है

उसका खुद पर से ही विश्वास डगमगाने लग जाता है

वो खुद से हारने लगता है,

बाजोकात कुछ ऐसा हो जाता है कि

दुनिया उसे झूठी लगने लगती है

वो इस झूठ से खुद को आजाद कर लेना चाहता है

और कुछ गलत कदम उठाने की कोशिश करने लगता है

पर इससे बात नही बनती क्योंकि ये इतना आसान भी नही होता है

इसलिए इंसान को अपनी पहचान बनाए रखना जरूरी होता है,

खुद को मजबूत दिखाना ही पड़ता है,

इस जालिम दुनिया से उसे मजबूती के साथ लड़न होता है

मजीद खुद को दुख पहुंचाए इस बंधन से मुक्त होना पड़ता है

अपनी शख्सियत को मजबूती के साथ दूसरो के सामने पेश करना होता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts