अलमारी का बन्द कोना's image
1 min read

अलमारी का बन्द कोना

Shibli SanaShibli Sana June 16, 2020
Share0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

आज सुबह सुबह ही खुल गया

अलमारी का बन्द कोना

जिसमें रखी थी

एक अधूरी मोहब्बत की दास्तान

कुछ अधूरे ख़्याव,कुछ बेकाबू जज़बात

सावन की पहली बारिश का

वो एक भीगा लम्बा

वो कभी न खत्म होने वाला रास्ता

साथ टहले थे,जिसमें हम

आज भी पड़ा है,वो सुनहरा ब्रासलेट

जो अपनी मोहब्बत की निशानी में

तुमने मेरे हाथ में पहनाया था

और ,,वो फोटो

तुमसे नज़र बचाकर

तुम्हारी एलबम से चुराया था

वो नज़्में ,,,वे गज़लें 

जिसे तुम्हारी याद में गुनगुनाया था

और ,,,,,भी न जाने कितनी यादें

उस बन्द कोने के खुलते ही

मेरे पास चली आयीं

फ़िर यूं हुआ,,,उन यादों का बोझ

मैंने दिन भर ठोया,,और रात में

उन यादों को सिरहाने रखकर

बरसों बाद

फ़िर आँसुओं की बारिश में

अपना तकिया भिगोया ,,,,,,,!


शिबली सना

इलाहाबाद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts