तसव्वुर जिंदा रखता हूं's image
Share1 Bookmarks 2241 Reads2 Likes
क्यों जिये जा रहा हूं इल्म नही मुझको
पर हां में उठ जाता हूं सुबह वक्त पर
मंजिल की कोई खबर नहीं है मुझको
पर हां रुकता नही कहीं भी पल भर
शामिल नहीं करता वो किसी बात में मुझको
लेकिन साथ नहीं छोड़ता उसका क्षण भर
कल क्या होगा जिंदगी का पता नही मुझको
तसव्वुर जिंदा रखता हूं चाहे मौत हो आस्ताँ पर
शैलेंद्र शुक्ला " हलदौना"
ग्रेटर नोएडा
इल्म= ज्ञान, जानकारी
तसव्वुर= कल्पना ,ख्वाब
आस्ताँ = चोखट,दहलीज

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts