मां का हाथ ना होगा !!'s image
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
सपनों ने अपने  मायाजाल में  कुछ इस तरह उलझाया
घर से निकला था जिंदगी के  चंद सपने हासिल करने 
क्या मालूम था घर लौटना भी अब एक सपना होगा !!
गाड़ी शोहरत बंगला और बैंक में  बहुत सा पैसा होगा 
लेकिन वो बचपन के दोस्त और गली का शोर ना होगा !!
सुबह सुबह साहब साहब का  बहुत तेज शोर तो होगा 
लेकिन भोर में  मां के भजनों का मीठा सा साज ना होगा !!
रात को महफिलें  जाम और हम खयालों का साथ तो होगा
पर सोने से पहले भाई बहनों अंतराक्षरी का दौर ना होगा !!
खाने की टेबल पर अनगिनत रोटी और साग तो होगा 
पर एक रोटी और ले लो बेटा वो मां का हाथ ना होगा !!
 गाड़ी का दरवाजा खोलने के लिए एक सेवादार तो होगा 
 पर दरवाजे तक रोज नई सीख देने वाला बाप ना होगा !!
घर से निकला था जिंदगी के  चंद सपने हासिल करने 
क्या मालूम था घर लौटना भी अब एक सपना होगा !!
शैलेंद्र शुक्ला "हलदौना"
ग्रेटर नोएडा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts