आंसू और आंख's image

हार को जीत में बदलना सीखना है मुझे 

आंसू और आंख का रिश्ता समझना है मुझे

 ठहरते क्यों नही अश्क कभी किसी आंखों में

बस यही वजह अब जानना है मुझे !!

सफर कितना भी लंबा हो मुझे नही डर 

मुश्किल रास्तों पर चलना है सीखना मुझे !!

जरूरी नहीं मंजिल मिले या ना मिले 

हर पल जिंदादिली से अब जीना है मुझे !!

साथ किसी का नही मिलता उम्र भर के लिए

हाथ जब तक हो हाथों में संभलाना है मुझे!!

जिक्र जब भी हो दुनिया में मुहोब्बत कहीं 

नाम उस तारीख में शामिल करना है मुझे !!

शैलेंद्र शुक्ला"हलदौना"

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts