दोहे's image
Share0 Bookmarks 34 Reads1 Likes

कहाँ सुकूँ के दिन गए, मन ये करे विलाप।
हँसना-रोना भाग्य है, सो कैसा अनुताप।१।

✍️शेखर उत्तराखंडी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts