रंग's image
Share0 Bookmarks 167 Reads1 Likes
पूरा पंडाल माता के जयकारे से गुंजमान था। सब माता की भक्ति में डूब से गए थे। भक्ति की गहराई ही ऐसी होती है, वो पहले डूबाती है फिर पार लगाती है। तभी मंडली में रंगों की एक थाली आई। फाल्गुन का माह था और पंडित जी ने भी कहा था कि सब के चेहरे पर अबीर लगा दिया जाए। रंग तो हर्ष का प्रतीक है। हर रंग की अपनी एक दास्तां है, जो एक खूबसूरत आंख ही पढ़ सकती है। विभिन्न रंगों से भरी वो थाली आई, और सब उस थाली पर मानो टूट से परे। "अरे बस हल्का सा लगाना ", "मुझे हरा नहीं", "बस टीका कर दो दी", "अब्बे पोत दे पूरे चेहरे पे" जैसे बातों से माहौल गर्म सा हो गया। सब एक दूसरे को रंगीन कर रहे थे, लेकिन एक बूढ़ी काकी उसी पंडाल के एक कोने में बैठी दर्शक बनी हुई थी। सफेद साड़ी में बिना किसी श्रृंगार के बैठी काकी के भाव को समझ पाना बड़ा मुश्किल सा काम था। ऐसा लग रहा था काकी खुश है, फिर अगले ही क्षण लगता था कि वो दुखी है। यही कहा जा सकता है कि वो दूसरे को देख के खुश थी, लेकिन शायद अपने अंदर के किसी इच्छा के कारण दुखी थी। काकी अपने रक्तहीन सफेद हो चुके आंख से सबको टकटकी लगाए देख रही थी । मानो वो कह रही हो कि मुझे भी डूब जाने दो इन रंगों में, करने दो मुझे भी इन रंगों की अनुभूति, मेरे सूख चुके गालों को भी चाहिए इन रंगों का मासूम सा स्पर्श। लेकिन वो कह नहीं पा रही थी, और अपनी अपनी दुनिया में खोई काकी के अपने समझ भी न पा रहे थे, या यूं कहे तो समझने का प्रयासमात्र भी नहीं कर रहे थे। एक छोटी बच्ची अपने नन्हे हथेली को रंगों में डुबोकर काकी के पास जाती है और काकी को कहती है कि उसे रंग लगाने दे। इस समाज के प्रथाओं से घिरी काकी असमंजस में थी की कैसे मना कर उस नन्ही बच्ची को जो इस रूढ़िवादी समाज को नहीं पहचानती थी। कैसे बताती कि एक पुरुष के जाने के बाद उस बुढ़िया को रंगों को स्पर्श करने का अधिकार छीन लिया गया था? कैसे बताती उस बच्ची को कि उसके पुरुष के बिना ये समाज उसे खुश नहीं देखना चाहता था? आज काकी निरुत्तर थी। उस मासूम बच्ची ने काकी के चेहरे को रंगों में डूबा दिया था। काकी शिथिल हो गई थी एकदम निस्प्राण। बस उसके आंख से आंसू गिर रहे थे जो उसके जीवित होने के सबूत थे। बहते हुए अश्क ने रंगों को भिगो दिया था, मानो उसे चेहरे से हटने नहीं देना चाहते थे। बाजे के शोर से काकी का भक्क खुला। जल्दी जल्दी उसने अपने पल्लो से अपने चेहरे के रंग को हटाया। चेहरे से रंग तो हट गया था लेकिन काकी का पल्लो आज रंगीन हो गया था। सब भक्ति में डूबे थे, काकी भी माता को टकटकी लगाए देख रही थी।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts