poetry's image
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes
घर हो के भी क्यों तू बेघर रहता है
वस्ल से पहले जुदाई का डर रहता है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts