Love poetry's image
0 Bookmarks 39 Reads0 Likes
पाया नहीं कभी मैंने उसे
फिर भी उसे खोने की फ़िक्र रही जिंदगी भर ।

शशांक


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts