रावण जला देना's image
Poetry2 min read

रावण जला देना

पियुषपियुष October 5, 2022
Share0 Bookmarks 38 Reads0 Likes
बेशक रावण जला लेना, 
धरती की पाप मिटा देना
पूजन दुर्गा का करना,  
 नव दीप ज्योत जला देना।
                         विद्वान था तो क्या ,    
                  जलाओगे तुम यह ठान लेना
                      ऐसा था वह अंतिम, 
                  बात पहले यह समझा देना।

    किया अपमान ऋषि का,
देवताओं को भी भयभीत किया
हत्या अपहरण बंदी स्त्रीमोह,
 कार्य यह सब उसने किया
                     हो निष्पाप व्यक्तित्व का,
                     तो तुम रावण जला देना
                     ऐसा था वह अंतिम,
                  बात पहले यह समझा देना।।
बात बहनकी सम्मान का
राक्षस कूल के अभिमान का
चला था रावण प्रतिशोध लेने
राम से उसकी सीता लेने।।
                    बदला कभी न लोगे
                  मानव हो तुम बता देना
                    ऐसा था वह अंतिम 
                 बात पहले यह समझा देना
 नाक काटे कोई बहनका
 सम्मान देकर माफ कर देना
    ऐसा था वह अंतिम 
 बात पहले यह समझा देना
                    छुआ न कभी सीता को
                    ये बात स्मरण कर लेना
                      ऐसा था वह अंतिम 
                     ये बात भी समझ लेना
रखा सुरक्षित सीता को
रावण को तुम जान लेना
ऐसा था वह अंतिम 
 बात तुम समझ लेना
                  विशुद्ध हृदय का हो तुम
                          तो
               पापी रावण को मान लेना
                           
               यदि सदाचारी हो तुम
                          तो
              बेशक रावण को जला देना

  ""ऐसा था वह अंतिम 
बात पहले यह समझा देना""
           #khankhan_piyush 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts