चलो आज फिर अमन का 
     रामसेतु बनाते हैं's image
Poetry1 min read

चलो आज फिर अमन का रामसेतु बनाते हैं

पियुषपियुष October 6, 2022
Share0 Bookmarks 22 Reads0 Likes
अंतर्मन की लंका का फिर 
       रावण जलाते हैं,
सर्वनाश के कारण 'युद्ध' का
    समाप्ति शंख बजाते हैं।
चलो आज फिर अमन का
     रामसेतु बनाते हैं।।

प्रवृति न होगी अहंकार का
      ऐसी शपथ लेते हैं,
न हो ध्यान पराई नार का
    नियत ऐसी बनाते हैं।
चलो आज फिर अमन का
    रामसेतु बनाते हैं।।

सामर्थ्य के उपयोग से हम
      धर्म रक्षा करते हैं,
सत्यपरायणता से विशुद्ध हम सबका 
      आचरण बनाते हैं।
चलो आज फिर अमन का
      रामसेतु बनाते हैं।।

सद्मार्ग दिखाए यदि भाई आपका
          हृदयसे उसे लगाते हैं,
पत्नी का विचार हो सम्मान का
         सम्मान उसे दिलाते हैं।
चलो आज फिर अमन का
 रामसेतु बनाते हैं।।

ध्यान रहे जनमत संग्रह का
        ऐसी विधि बनाते हैं,
हैं श्रेष्ठ अपने समुदाय का
        समुदाय की रक्षा करते हैं।
चलो आज फिर अमन का
       रामसेतु बनाते हैं।।
          #khankhan_piyush

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts