कोहरे घने हैं's image
Poetry1 min read

कोहरे घने हैं

vikash sharmavikash sharma March 15, 2022
Share0 Bookmarks 64 Reads1 Likes
कोहरे घने हैं कासीर मगर रोशनी आरही है
खिल गई थी जो कली अब कुम्हला रही है 

बिगड़ रहा है शहर की आवो हवा का असर
तुम्हारे ईमान से जिल्लत की बदबू आ रही है

कोई पहुंचा नहीं इस मकान तक अरसा हुआ
मेरी आवाज ही मुझको बहला रही है 

सांस लेते हैं मगरूरी में और जिंदा भी नहीं
सुरते हयात पर मुर्दों को हंसी आ रही है

लिखता हूं मैं इस कदर बे वास्ता होकर 
कोई पूछे तो सही कौन सी बात मुझे खा रही है।

विकाश शर्मा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts