हिसाब's image
Share0 Bookmarks 82 Reads0 Likes
          हर रोज जिंदगी मांगती है एक हिसाब 
          छिटक कर गए हुए हर लम्हे का, जकड़कर 
          बैठी हुई सब बातों का 
          सूखी सी हंसी का, भीगी उदासी का 
          हिसाब मांगती है
          चली आती है मुझे अकेला पाकर 
          टटोलती है माथे की सलवटों में कुछ
          पलटते हुए पलकों के पन्नों को 
          ढूंढ लेती है कई बेइमानियां, गुस्ताखियां
          कह देती है फिर हंसकर ' तुम हो अल्हड़ '
          पर मैं फिर मांगूंगी हिसाब किसी और दिन। 

          विकाश शर्मा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts