"मां"'s image
Share0 Bookmarks 94 Reads1 Likes


आपकी उंगली पकड़ के बड़ा हुआ हूं मैं ,
चाहे जितना बड़ा हो जाऊं आपके लिए आज भी बच्चा हूं मैं

अपनी कोख में मुझे 9 महीने रखना ,
मेरे न होते हुए भी मेरी हर जरूरत का ख्याल रखना,
मेरा लाड़ करना मेरा दुलार करना ,
मेरी हर छोटी बड़ी चीज का ख्याल रखना,

जब पैदा हुआ तो सबसे ज्यादा आपका खुश होना,
जब चलने लगा तो सबसे ज्यादा आपका खुश होना,
जब बोलने लगा तो सबसे ज्यादा आपका खुश होना,

दो रोटी मांगू तो चार खिला देना ,
स्कूल न जाना चाहु तो मेरे माथे को चूम मेरे साथ खुद स्कूल तक चले जाना,
न पढ़ने पर मुझे बड़ा आदमी बनने का सपना दिखाकर एक दो थप्पड़ मार जबरदस्ती पढ़ने को बैठा देना,

जब खेलने जाऊं तो मुझे ये कह कर रोक देना की चोट लग जाएगी ,
जब चोट लग जाए तो मेरे साथ खुद भी रो पड़ना...

और वो दिन जब पहली बार मैं क्लास में टॉप किया तो आपका हद से ज्यादा खुश हो जाना...
और बस आपको खुश देखने के लिए मेरा यूंही पढ़ते जाना,


मेरी नादानियों, मेरी शैतानियों, मेरी बदमाशियों को हंस कर टाल देना ,
कुछ ऊंच नीच की हरकतों पर थोड़ा बहुत मुझे पीट देना,
फिर जब रोने लग जाऊं तो अपने ही गले लगा मुझे चुप कर लेना ,
मुझे नहीं लगता इस से बढ़कर भी किसी रिश्ते को नाम देना ......!!

आज जब इतना बड़ा हो गया हूं मैं अपनी हर जरूरत का ख्याल रख लेता हूं मैं ,
फिर भी मेरे जागने, सोने, खाने-पीने, पढ़ने, खेलने हर हरकत पर नज़र रखना ,


फिर मेरा पढ़ने को किसी दूसरे शहर चले जाना ,
फिर हर रोज आपका मुझे कॉल कर खाना खाया या नहीं पूछना,
फिर वो त्योहारों पे घर को आना ,
आपके हाथ की बनी खूब सारी मिठाई खाना....

खर्च कितना हो रहा है ये कभी सोचा ही नहीं ,
बस आपके लिए तो मेरी हर खुशी मायने रखती थी...
चाहे कितना ही बुरा क्यूं न हो जाए जिंदगी में ,
हर वक्त मेरी मां मेरे साथ खड़ी थी...।

जब अंधेरे में था तब आपकी याद आई, अकेलेपन में आपकी याद आई,
भूख लगी तब आपकी याद आई, नींद लगी तब आपकी याद आई,
जब कुछ समझ न आने पर हार मान बैठ जाया करता, तब आपकी याद आई,

सारे दिन की थकान लेकर जब शाम को आपकी गोद में सर रख सो जाता हूं मैं ,
फिर अपनी सारे दिन की थकान, सारी गलतियां, सारी परेशानियां भूल जाता हूं मैं...!!


बचपन से लेकर आज तक आपका मेरी देखरेख करना, मेरी हर जरूरत को पूरी करना...
हां मैं ये सब कभी लौटा नहीं सकता , पर
आपके चेहरे पर वही पुरानी मुस्कान ला सकता हूं मैं ,
आपके हाथों में वही लाल चूड़ियां वो बनारसी साड़ियां हां वो सब ज़रूर ला सकता हूं मैं....❣️


:- अर्पित शर्मा ✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts