ये खिलौना's image
Share0 Bookmarks 150 Reads0 Likes

इन बनावट की जंजीरों से कब आज़ाद होना चाहता है ये खिलौना

लिपटकर इनसे रूठकर कब सोना चाहता है ये खिलौना

टूटकर भी जुड़ने का दिखावा इसका कमाल का है

 खुद मिट्टी का होके उसे कब सोना बनाना चाहा है ये खिलौना



मेरी फ़िक्र, मेरी तबाही का जरिया समझ में आ रहा है

मैं उजाले में हूं इसलिए मेरा छाँव बदरिया समझ में आ रहा है

हर मौसम में तेरे हिफाज़त की कसमें जो खाई है 

मुझमें ही डूब मेरा सनम ,आज एक दरिया समझ में आ रहा है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts