तुम से मिलते-मिलते's image
Love PoetryRomantic Poetry1 min read

तुम से मिलते-मिलते

Shaikh HilalShaikh Hilal June 16, 2020
Share0 Bookmarks 29 Reads0 Likes

ये हमें क्या हो गया तुमसे मिलते-मिलते,

वजूद अपना खो दिया तुमसे मिलते-मिलते।

अपनी ही खबर रही न सुध बची कोई दीं के सफर में

साध को जैसे मिल गया ख़ुदाया तुमसे मिलते-मिलते।

~Hilal


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts