अब तक ए ज़िन्दगी's image
Poetry1 min read

अब तक ए ज़िन्दगी

Shaheryar NirajShaheryar Niraj February 1, 2022
Share0 Bookmarks 23 Reads0 Likes

जाने कैसे कैसों को

मिलवा चुकी हो मुझसे...

अब तक ए ज़िन्दगी

की तुझ पे शक होता है.

कैसे कैसों को

क्या-क्या मिला है अब तक

ए ज़िन्दगी

की अब खुद पे शक होता है.शहरयार नीरज...



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts