साहित्य का सिपाही's image
Poetry1 min read

साहित्य का सिपाही

Shad Mohammad GaziShad Mohammad Gazi December 28, 2022
Share0 Bookmarks 79 Reads0 Likes
ना मै राहत इंदौरी हू और ना ही गुलजार हूं
साहित्य का सिपाही और छोटा सा कलमकार हूं।

कभी इश्क कभी जुदाई कभी प्यार लिखता हूं
मैं कुछ भी लिखूं पर तुझे हर बार लिखता हूं।

मेरे हर्फ कभी पढ़ना और उनको फिर समझना
कभी प्यार कर के देखो और उसमे फिर तड़पना।

इस खुश्क से मौसम में तन्हाई रुला देगी
जिसे भूल चुके हो तुम बो याद दिला देगी।

खयालों में उसके खोकर तुम आज देख लेना
बो शहर में नहीं अब उसके राज देख लेना।

दिल तोड़कर बो खुश हैं तुम भी खुशी से जीना
कभी याद उसकी आए एक जाम लेके पीना।


मैं उसी से खुश हू जो मोहब्बत सब ने नवाजी हैं
जिसे सुन रहे थे आप सब बो शाद गाज़ी है।

                                -शाद गाज़ी 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts