मजबूरी में ही शायद's image
Poetry1 min read

मजबूरी में ही शायद

seema392soodseema392sood January 9, 2023
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
मजबूरी में ही शायद,,

हम रिश्ते निभा रहे हैं।।

सीमा सूद ✍️ स्वरचित रचना

दोराहा जिला लुधियाना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts