प्रेम सप्ताह's image
Poetry1 min read

प्रेम सप्ताह

Seema MahapatraSeema Mahapatra February 11, 2022
Share0 Bookmarks 68 Reads0 Likes
कैसा होता अगर 
प्रेम किसी दिन या 
किसी सप्ताह का दास 
न होता 
न होती बाजारवाद की 
बेड़ियां 
न होते मिथ्या प्रवंचना 
प्रेम तो होता केवल 
प्रेम 
न होती इसमें छल 
एवं न होती प्रताड़ना 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts