अभी मुझमें मै बाकी हूं's image
Poetry1 min read

अभी मुझमें मै बाकी हूं

Satyendra KumarSatyendra Kumar October 3, 2021
Share0 Bookmarks 79 Reads1 Likes

अभी मुझमें मैं बाकी हूं,

चलता हूं, गिरता हूं, उठता हूं और फिर चलता हूं,

कभी टूटता हूं, कभी बिखरता हूं और फिर जुड़ता हूं,

कभी थकता हूं, कभी बुझता हूं पर फिर जलता हूं,

क्योंकि.....

मुझमें अभी मैं बाकी हूं।।

"सत्येन्द्र"

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts