यूक्रेन-रूस युद्ध के प्रति!'s image
Poetry1 min read

यूक्रेन-रूस युद्ध के प्रति!

सत्यव्रत रजकसत्यव्रत रजक March 12, 2022
Share0 Bookmarks 99 Reads1 Likes
रोको यह समर, त्रासदी जग की,
शत् सदी सहस्त्र साल पछताओगे;
मिट्टी माता का गर्भ चीरने वालों,
हे दानव, बस मृदांश रह जाओगे।

युद्ध-कुध्द है नहीं ये-
शुध्द शासक का यूं रे जीवन;
जनता रहे सुखार्थ सत्य- 
हो यहीं नृपति का साम्राज्य मन।

हे शासक शोभित नहीं तुझे-
नत्-नत् जनता का मरना;
तेरे बैर मोल के मध्य यहां-
जनता को क्या करना?

देखना पड़ा ऐसा असित दिवस ये,
हाय जनों की कष्ट कांति का;
रोको महाभारत के गज-अश्व रथ,
आह्वान हो केवल शांति का!

.
वह शासक कैसे हो सकता
जो युध्द-क्रुद्ध-स्वार्थत्व को जनता हो;
है शासक कुशल प्रवीर वहीं,
जिसके शासन में शांति हो समता हो। 


- सत्यव्रत रजक




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts