रोटी's image

रोटी-

___

वह नभस्पर्शी इमारत

वे अथक अविराम चरण

ईंट के ढेले कंधे

रक्त सिंचित तन स्वेद संयुक्त;

पेट की लालसा:भूंख भंजन

रोटी: एक सवाल?

रोटी ही सिंहासन-राजन

रोटी ही रंक-भिक्षु-अभिवादन

जीवन— रोटी, रोटी, रोटी....

जयति रोटी.......।


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts