राह के राही's image
Share0 Bookmarks 54 Reads1 Likes
राह के राही
----------------------


क्या कपन क्या कलेश रे, 
 हो भय नहीं लव लेश रे;
क्या देखना रोये हुए कुहरे,
क्या देखना छिपते हुए चहरे।
किंचित नही अपनत्व हो,
चाह यह नही अमृत्व हो।।

सोच न यह पंथ कैसा,
बढ़ चलो हो भी जैसा;
कई मिलेंगे शूल काटी,
कई मिलेंगे फूल माटी।
कई निर्झर अंगार होगे,
रोडे़ कई हजार होंगे।।

अरे तू तो है रे 'आदमी',
राह शुष्क हो या नमीं;
क्या फर्क है तुम्हें इससे,
भय उगे आखिर किससे।
है विसमता से तू अधिक,
बिन मुड़े बढा चल पथिक।। 
--
14/08/2021

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts