पेट की रोटी !'s image
Share1 Bookmarks 196 Reads2 Likes

पेट की रोटी को मैं रोज दर-दर भटक सा रहा, 
कोई बच्चा मेरे सीने पर हरदम सिसक सा रहा;
सड़कों पर धूप में धूमिल हुआ जल खाक मैं,
ओ देवता रे आज तू आसन पर बैठ गा रहा।

- सत्यव्रत रजक 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts