मर्यादा's image
Share0 Bookmarks 26 Reads1 Likes

संध्या ढंक रही है धूप वैसे 
जैसे एक मनुष्य ढकता है देह,
दोनो का काम एक ही है - मर्यादा!

— सत्यव्रत रजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts